Grah


शनि चले मंगल के घर

shani in 8

शनि अपनी उच्च की तुला राशि को छोड़ कर 2 नवंबर को रात्रि 22:46 पर मंगल की वृश्चिक राशि में पहुचेंगे | शनि का राशि परिवर्तन हमेशा ही बड़ा परिवर्तन होता है इस बार यह बदलाव मंगल की राशि में है मंगल का भूमि, भवन ,लाल रंग की वस्तुओं, जोश और उन्माद  पर आधिपत्य है, जबकि शनि का संबंध ऑयल, मशीनरी, न्यायालय और काले रंग से होना माना जाता है। शनि जिस भी राशि में होते हैं उसमें वृद्धि करते हैं, आने वाले ढाई सालों में पूरे विश्व और भारत में भूमि, भवन के कारोबार में वृद्धि होगी | आतंकवाद पर कड़े कानून बनेंगे | आतंकवादी घटनाओं में और विशेष तौर पर उन्मादी घटनाओं (दंगों) में वृद्धि होगी |

भूकंप, सुनामी और अनेकों अनेक प्राकृतिक घटनाओं का प्रबल योग बनेगा, जिससे जन-हानि होगी | गुरु जब तक कर्क राशि में बैठ कर शनि को अपनी पंचम दृष्टि से देख रहा है तब तक उन्माद की स्थिति नियंत्रण में रहेगी उसके बाद पूरे विश्व में उन्माद और आतंकवाद सबसे बड़ी मुसीबत बन कर उभरेगा |

इन्ही ढाई वर्षों में आतंकवाद के खिलाफ कई बड़े देश खुल के एक साथ सामने आ सकते हैं |

कालपुरुष की कुंडली के अष्टम भाव में शनि का आना नए शोध कार्य को इंगित करता है अर्थात आने वाले ढाई वर्षों में विश्व को कोई नया अविष्कार मिल सकता है |

इस राशि परिवर्तन से कन्या राशि साढ़े साती से मुक्त होगी और कर्क और मीन राशि शनि की ढैया से मुक्त होगी | धनु राशि पर साढ़े साती लगेगी और मेष और सिंह राशि शनि  की ढैया से पीड़ित होंगी |

नीचे देखिये शनि के राशि परिवर्तन से कैसे प्रभावित होगी आपकी राशि


मेष - Aries


वृषभ - Taurus


मिथुन - Gemini


कर्क - Cancer


सिंह - Leo


कन्या - Virgo


तुला - Libra


वृश्चिक - Scorpio


धनु - Sagittarius


मकर - Capricorn


कुम्भ - Aquarius


मीन - Pisces


Comments (0)

Leave Reply

Testimonial



Flickr Photos

Send us a message


Sindhu - Copyright © 2020 Amit Behorey. All Rights Reserved. Website Designed & Developed By : Digiature Technology Pvt. Ltd.