Grah


Pujan Convention

amit

पूजा या ईश्वर की आराधना में जिस प्रकार यज्ञ और पूजन प्रक्रिया के बारे में पिछले पेज में बताया गया उसी प्रकार पूजन की दो परिपाटी होती है
1 . वैदिक परिपाटी
2 . पौराणिक परिपाटी

वैदिक मंत्रो द्वारा पूजन करना वैदिक परिपाटी के अंतर्गत आता है | वेदों से प्राप्त हुए मन्त्र का पूजन वैदिक पूजन कहलाता है | जो यज्ञोपवीतधारी होता है वही वैदिक मंत्रो का जाप अथवा प्रयोग का अधिकारी होता है |

पौराणिक मन्त्रों द्वारा पूजन करना पौराणिक परिपाटी के अंतर्गत आता है | वेदों के अतिरिक्त या कहें पुराणों से जो मंत्र निकले है उनको पौराणिक पूजन कहते हैं | इन मन्त्रों द्वारा पूजन व जाप कोई भी कर सकता है अर्थात जिसका यज्ञोपवीत संस्कार ना हुआ हो वह भी इसे कर सकता है |

संक्षेप में - जो यज्ञोपवीतधारी हो वह वैदिक मंत्रो तथा पौराणिक मन्त्रों से अपने आराध्य (इष्ट ) का पूजन कर सकते है | जिनका यज्ञोपवीत ना हुआ हो, वह वैदिक मन्त्रों का उच्चारण ना करके केवल पौराणिक मन्त्रों द्वारा पूजन कर सकते हैं |

 

<<< पीछे जाएँ
पूजा क्या है ?
 

यह जानकारी आपको कैसी लगी ?
अवश्य बताएं........

ज्योतिषाचार्य अमित बहोरे

Comments (0)

Leave Reply

Testimonial



Flickr Photos

Send us a message


Sindhu - Copyright © 2021 Amit Behorey. All Rights Reserved. Website Designed & Developed By : Digiature Technology Pvt. Ltd.