Grah


Rudrabhishek रुद्राभिषेक

rudrabhishek

रुद्राभिषेक अर्थात रूद्र का अभिषेक शिव जी अभिषेक करना परम कल्याणकारी है, कलियुग में शिव जी को प्रसन्न करने का सबसे उत्तम उपाय है रुद्राभिषेक | वैसे तो रुद्राभिषेक किसी भी दिन किया जा सकता है परन्तु त्रियोदशी तिथि और सोमवार को इसको करना परम कल्याण कारी है | श्रावण मास में किसी भी दिन किया गया रुद्राभिषेक अद्भुत व् शीघ्र फल प्रदान करता है | रुद्राभिषेक अनेक पदार्थों  से किया जाता है और हर पदार्थ से किया गया रुद्राभिषेक अलग फल देने में सक्षम है |

आप अपनी मनोकामना अनुसार रुद्राभिषेक कर के फल की प्राप्ति कर सकते है | रुद्राभिषेक रुद्र-अष्टाध्यायी नामक पुस्तक के मंत्रो से किया जाता है ये सभी मंत्र यजुर्वेद के मंत्रो से निकाले गये है ।

 विविध कामनाओं की पूर्ति के लिए रुद्राभिषेक में अन्यान्य द्रव्यों से करने का निर्देश किया गया है।

  • रोगों को शांत करने के लिए कुशोदक से अभिषेक करें।
  • सम्पत्ति प्राप्ति के लिए दही से अभिषेक करें ।
  • लक्ष्मी प्राप्ति के लिए गन्ने के रस अथवा गुड के रस से अभिषेक करें
  • धन वृद्धि के लिए शहद एवं घी से अभिषेक करें।
  • पुत्र प्राप्ति के लिए दुग्ध से और यदि  संतान उत्पन्न होकर मृत पैदा हो तो गोदुग्ध से अभिषेक द्वारा योग्य संतान-प्राप्ति होती है। 
  • सहस्रनाम मंत्रों का उच्चरण करते हुए घृत की धारा से वंश वृद्धि होती है।
  • सरसों के तेल से अभिषेक द्वारा शत्रु पराजित होता है।
  • शर्करा मिलाकर दूध के अभिषेक से जड़बुद्धि विद्वान होता है।
  • समस्त प्रकार की सिद्धिय़ॉ प्राप्ति के लिये गंगा जल से अभिषेक करें |

विभिन्न द्रव्यों के अभिषेक से असंभव भी संभव हो जाता है। शिवभक्तों को यजुर्वेद मंत्रों के विधि विधान से रुद्राभिषेक करना चाहिए। असमर्थ व्यक्ति को  ऊं नम: शिवाय का जाप करते हुए रुद्राभिषेक करना चाहिए। रुद्रा-अभिषेक अद्भुत कल्याणक़ारी है, जो भी शुद्ध मन से शिव का रुद्राभिषेक करता है, शिव उसको मनचाहा वरदान देते है ।

Comments (0)

Leave Reply

Testimonial



Flickr Photos

Send us a message


Sindhu - Copyright © 2020 Amit Behorey. All Rights Reserved. Website Designed & Developed By : Digiature Technology Pvt. Ltd.