Grah


Shani The Judge

shani dev

शनि का नाम -
संस्कृत- मंद, अर्कपत्र, नील, छायासुत, सूर्यपुत्र, भानुज, सौरि, पंगु, कोण आदि
अंग्रेजी- Saturn (सैटर्न )
उर्दू- जूदुल, केदवान

वर्ण – कृष्ण
अवस्था – वृद्ध
लिंग – नपुंसक
जाति – शुद्र
स्वरुप – आलसी
गुण – तम
तत्त्व- वायु
प्रकृति – वात (मतान्तर से कफ तथा वात )
दिशा- पश्चिम
धातु – लोहा
रत्न – नीलम (Blue - Sapphire )

शनि को काल-पुरुष का ' दुःख ' माना गया है | ग्रह मंडल में इसे सेवक का पद प्राप्त है | कर्मों के अनुसार सुख और दुःख का निर्धारण करने के कारण इनको ' न्यायधीस ' भी कहते हैं |

आधिपत्य- शनि कारागार, पुलिस, यातायात, ठेकेदारी, अचल-संपत्ति, जमीन, मजदूर, कल-कारखाने, मशीनरी, छोटे दुकानदार, छोटे संस्थान, लोहे सम्बन्धी कार्य, सीमेंट, लोकप्रियता, सार्वजनिक प्रसिद्धि का अधिपति होता है |

शनि से प्रभवित अंग
शनि का हड्डी, पसली, मांस-पेशी, पिंडली, घुटने, स्नायु, नख, केश तथा जोड़ों पर प्र्रभाव होता है |

शनि के रोग
चिंता, तनाव, हड्डी सम्बन्धी रोज, जोड़ों का दर्द, केशों का झड़ना और दीर्घकालीन रोग

शनि भी सदैव ‘ मार्गी ‘ नहीं रहता, अपितु समय समय पर मार्गी, वक्री तथा अस्त होता रहता है | इसकी स्व-राशियाँ मकर और कुम्भ हैं | यह तुला राशि में उच्च का, मेष राशि में नीच का तथा कुम्भ राशि में 20 अंश तक मूलत्रिकोणस्थ होता है | (तुला राशि में 20 अंश तक परमोच्च और मेष में 20 अंश तक परम नीच का होता है )

मित्र और शत्रु
बुध, शुक्र, राहु और केतु शनि के नैसर्गिक मित्र हैं |
बृहस्पति के साथ शनि समभाव रखता है |
सूर्य, चन्द्र और मंगल से शनि की नैसर्गिक शत्रुता है |

यदि शनि आप से कुपित हैं तो जानिए शनि के उपाय

Comments (0)

Leave Reply



Testimonial



Flickr Photos

Send us a message


Sindhu - Copyright © 2019 Amit Behorey. All Rights Reserved. Website Designed & Developed By : Digiature Technology Pvt. Ltd.