Grah


Ketu - The Dragon's Tail

ketu statue

केतु का नाम
संस्कृत- शिखी, ध्वज, राहुपुच्छ |
अंग्रेजी- dragon 's tail (ड्रैगन्सटेल )
उर्दू- जनब

वर्ण – धुंए जैसा (मतान्तर से - काजल जैसा )
अवस्था – वृद्ध
लिंग – स्त्री
जाति – म्लेच्छ
स्वरुप – मलिन
गुण – तम
तत्त्व- वायु (मतान्तर से आकाश, तेज)
प्रकृति – वात
दिशा- दक्षिण -पश्चिम कोण
धातु – लोहा
रत्न – लहसुनिया (Cat 's eye )

केतु को भी काल-पुरुष का दुःख माना गया है | अतः यह दुःख और शोक का प्रतीक है | ग्रह मंडल में कोई भी पद नहीं प्राप्त है | यह राहु ग्रह का धड़ मात्र है पर अत्यंत प्रभावशाली है |

आधिपत्य - अशुभ विषयों, अजीब से स्वपन, मृत्यु, कारावास, दुर्घटना, स्नायु सम्बन्धी विकार पर इसका अधिकार है |

केतु से प्रभावित अंग व रोग
पैर के तलवों, चर्म को प्रभावित करता है |
चर्म रोग, कुष्ठ रोग, क्षुधा-जनित रोग तथा स्नायु सम्बन्धी रोग

केतु एक छाया ग्रह है, यह कभी मार्गी नहीं होता यह सदैव ही वक्री होता है | राहु की ही तरह केतु की भी स्वयं की कोई राशि नहीं होती है पर अलग अलग विद्वान अलग अलग राशि में इसको उच्च और नीच का मानते हैं | परन्तु राहु की ही तरह केतु भी एक अत्यंत बलशाली ग्रह है जो शुभता को अशुभता में बदलने में सिद्धस्त है |

मित्र और शत्रु
बुध, शुक्र तथा शनि केतु के नैसर्गिक मित्र है |
बृहस्पति से केतु समभाव रखता है |
सूर्य, चन्द्र और मंगल से केतु की नैसर्गिक शत्रुता है |

केतु जब ख़राब फल देता है तो ये होता है जातक के जीवन में असर, विडियो देखें

केतु के उपाय के लिए विडियो देखें

 

 

Comments (0)

Leave Reply

Online Consultation

Popular Posts

Testimonial



Flickr Photos

Send us a message


Sindhu - Copyright © 2020 Amit Behorey. All Rights Reserved. Website Designed & Developed By : Digiature Technology Pvt. Ltd.